पैकेज : 15 हजार रुपये तक की सैलरी वालों का पीएफ सरकार भरेगी : वित मंत्री*

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया है कि 15 हजार रुपये तक की सैलरी वालों का पीएफ सरकार भरेगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यह फैसला लिया है कि अगस्त तक कंपनी और कर्मचारियों की तरफ से 12 फीसदी 12 फीसदी की रकम EPFO में अपनी तरफ से जमा करेगी. देश में संगठित क्षेत्रों को ध्यान में रखकर यह फैसला लिया गया है. इसके साथ ही इस फैसले से 4 लाख से ज्यादा संस्थाओं को भी फायदा मिलेगा.

लेकिन इस योजना की कुछ शर्तें हैं. सरकार के इस ऐलान का फायदा सिर्फ उन्हीं कंपनियों को मिलेगा, जिनके पास 100 से कम कर्मचारी हैं और 90 फीसदी कर्मचारी की सैलरी 15,000 रुपये से कम है. यानी 15 हजार से ज्यादा तनख्वाह पाने वालों को इसका फायदा नहीं मिलेगा

एमएसएमई को 3 लाख करोड़ रुपये की आर्थिक मदद की जाएगी. इन कारोबारियों को 4 साल तक बिना गारंटी के कर्ज मिलेगा. इस कदम से 45 लाख छोटी कंपनियों को फायदा मिलेगा. कुल मिलाकर MSME के 6 बड़े कदम उठाए गए है.

स्ट्रेस्ड MSME यानी कर्ज़ में डूबी कंपनियों के लिए 50 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. इन कंपनियों को पैसे देकर फिर से पटरी पर लाने की कोशिश है ।

जिन MSMEs में इक्विटी की समस्या है उन्हें सबऑर्डिनेट लोन दिया जाएगा. इसके लिए 20,000 करोड़ रुपए रखे गए हैं. इससे 2 लाख MSMEs की नकदी की समस्या दूर होगी ।

सभी NPA या स्ट्रेस्ड लोन को इस स्कीम का फायदा मिलेगा. सरकार CGTMSE के लिए 4,000 करोड़ रुपए देगी जो बैंकों को आंशिक गारंटी देते हैं, वो इसका फायदा अब MSMEs को भी देंगे ।

वित्त मंत्री ने बाताया लंबे सुझावों के बाद ये पैकेज बनाया गया है. इस पैकेज का मकसद भारत को आत्मनिर्भर बनाना है. लैंड, लेबर लिक्विडिटी, लॉ पैकेज के आधार हैं. PM मोदी ने आत्मनिर्भर भारत का विजन रखा है. गरीबों के लिए कई स्कीम और रिफॉर्म लाए गए.लोगों के खातों में सीधे पैसे पहुंचा रहे हैं ।

निर्मला सीतारमण ने बताया कि MSMEs को बिना किसी कोलैट्रल का 3 लाख करोड़ रुपए तक ऑटोमेटिक लोन मिलेगा. यह लोन 100 फीसदी गारंटीड और 4 साल के लिए होगा. यह स्कीम 21 अक्टूबर 2020 को खत्म होगी. इससे 45 लाख यूनिट्स को फायदा होगा. इससे उन्हें अपना कामकाज शुरू करने में मदद मिलेगी ।

वित्त मंत्री बुधवार ने बताया 14 अलग-अलग उपाय किए गए हैं. इनमें से 6 MSMEs, 2 EPF, 2 NBFC और MFIs, 1 डिस्कॉम के लिए, 1 कॉन्ट्रैक्टर्स के लिए, 1 रियल एस्टेट के लिए और 3 टैक्स से जुड़े फैसले किए हैं ।

देसी ब्रैंड्स को ग्लोबल ब्रैंडस बनाने पर जोर-वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया देसी ब्रैंड्स को ग्लोबल ब्रैंड्स बनाने पर जोर है.

आपको बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में अर्थव्यवस्था के रिवाइवल के लिए 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा की. यह पैकेज देश की जीडीपी का 10 प्रतिशत है.

लॉकडाउन में किसको, कितना नुकसान हुआ-

◼ देशभर में जारी लॉकडाउन का तगड़ा झटका खुदरा कारोबारियों यानी ट्रेडर्स को लग रहा है. खुदरा कारोबारियों के संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) का कहना है कि बीते 50 दिन के लॉकडाउन में खुदरा व्यापारियों का करीब 7.50 लाख करोड़ रुपये का कारोबार नहीं हुआ है.
इसका असर सरकारी खजाने पर भी पड़ा है. केंद्र और राज्य सरकार को करीब 1.5 लाख करोड़ रुपये GST राजस्व में भी नुकसान हुआ है. कोरोनावायरस महामारी संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए बीते 24 मार्च को देश में लॉकडाउन है.

◼ देश की अर्थव्यवस्था में तीन बड़े घटक होते हैं. एग्रीकल्चर, मैन्यूफैक्चरिंग यानी जहां कच्चे माल से उत्पाद तैयार होता और सर्विस सेक्टर.

◼देश की लगभग आधी आबादी कृषि के सेक्टर से जुड़ी है और GDP में योगदान 17% का. अगर आसान शब्दों में समझें तो लॉकडाउन से एग्रीकल्चर सेक्टर को ज्यादा नुकसान नहीं हुआ.

◼अब बच गए दो- मैन्यूफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर. 44 फीसदी रोजगार यहीं पर है. और जीडीपी में हिस्सा 70 फीसदी. लेकिन लॉकडाउन में न उद्योग-धंधे चल रहे हैं और सर्विस सेक्टर भी ठप है. देश को असली घाटा यहीं हो रहा है. कितना? एक हफ्ते में दो लाख करोड़ का नुकसान ।

Related Posts

NSQF NEW CONTENT CLASS-11TH-LEVEL-3 IT/ITES CLASS-11TH-LEVEL-3-Unit-1 CLASS-11TH-LEVEL-3-Unit-2 ...
World Eye
July 24, 2020
धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में 27 सेकेंड के लिए 98.95 फीसद सूर्य को चंद्रमा ने ढकाकुरुक्षेत्र के गांव भौर ...
World Eye
June 21, 2020
12:00 बजने के स्थान पर #आदित्य लिखा हुआ है जिसका अर्थ यह है कि सूर्य 12 प्रकार के होते हैं*1:00 बजने ...
World Eye
June 13, 2020
Skip to toolbar