Uncategorized

जिला सरपंच एसोसिएशन की बैठक में उठी कई मांगें……..

कैथल : जिला पंचायत एसोसिएशन की मासिक बैठक लोक निर्माण विश्राम गृह में एसो. जिला अध्यक्ष गज्जन सिंह गोबिंदपुरा की अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में जिले भर से पहुंचे सरपंचों ने भाग लिया और अपनी समस्याओं व निदान पर विचार-विमर्श किया। हालांकि इस बैठक में कोई महिला सरपंच नहीं दिखी। गज्जन सिंह गोबिंदपुरा ने कहा कि सरकार ने मार्कीट रेट से निर्माण सामग्री के बहुत कम रेट तय किए हुए हैं, जिस कारण सरपंच चाहकर भी अच्छी क्वालिटी का मैटिरियल नहीं लगा पा रहा है। आज अच्छी क्वालिटी का सीमेंट का एक बैग मार्कीट में 300 रुपए है, जबकि सरकार ने बैग के 243 रुपए निर्धारित किए हुए हैं। इसके अलावा सरकार ने पंचायतों को केवल 10 लाख रुपए तक राशि के ही विकास कार्य करवाने का अधिकार दिया हुआ है, इससे अधिक राशि के विकास कार्य अन्य सरकारी विभागों के अधिकारियों को सौंपे हुए हैं। गज्जन ङ्क्षसह ने सवाल खड़ा करते हुए कहा कि एक तरफ तो सरकार पढ़े-लिखे सरपंचों की पक्षधर है और दूसरी तरफ उन्हें अधिकार देने से भी हिचका रही है। 10 लाख रुपए से अधिक के विकास कार्य भी ग्राम पंचायतों के माध्यम से करवाने की मांग को लेकर वे हाईकोर्ट में अपील करेंगे। वहीं उन्होंने सरकार का ध्यान ऐसी पंचायतों की तरफ दिलवाया, जहां पंचायतों पर आय का कोई साधन नहीं है। ऐसी पंचायतों के लिए सरकार से अलग से पैकेज मांगा जाएगा, ताकि वे नियमित रूप से विकास कार्य होते रहे और कोई भी गांव न पिछड़ सके। सरपंचों का मानदेय 3 हजार रुपए से बढ़ाकर 10 हजार रुपए करने एवं पंचों का मानदेय भी 2 हजार रुपए करने की मांग उठाई गई। पंचायती काम के लिए चंडीगढ़ या अन्य शहरों के प्रतिदिन चक्कर लगाने वाले सरपंचों को टी.ए, डी.ए. दिए जाने, सचिवालय व अस्पताल में फ्री पार्किंग सुविधा दिए जाने की भी मांग उठाई गई। गज्जन ङ्क्षसह ने कहा कि जब ग्राम पंचायतें सरकार की हर योजना में कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग करती है तो सरकार को भी चाहिए कि वे उनकी मांगों की तरफ ध्यान दे। वहीं जो अधिकारी सरपंचों से अच्छा व्यवहार नहीं करते, फोन नहीं उठाते और उनकी बात नहीं सुनते, ऐसे अधिकारियों की सूची बनाकर सी.एम. को सौंपे जाने पर सहमति बनी। क्योंकि सरपंचों का मान-सम्मान बहाल करवाना ही उनका एक सूत्रीय लक्ष्य भी है। इस मौके पर विक्रम तंवर टीक, कृष्ण जाजनपुर, सतबीर सिंह, रतन सिंह, बलिहार सिंह लैंडरपीरजादा, जसविंदर सजूमा, नरेश शिमला, अमरेंद्र खारा सीवन, गजे सिंह फरोजपुर, रणजोद मेघा माजरा, देव कुमार करोड़ा, संजीव पट्टी डोगर, राकेश प्यौदा, हरप्रीत बढ़सीकरी, सुरेंद्र ढुल, सतीश सौथा सहित अन्य सरपंच उपस्थित थे।

About the author

Related Posts

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.