Uncategorized

मायावती को क्यों कहना पड़ा कि विपक्ष में बैठना मंज़ूर, समझौता नहीं….

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सबसे मज़बूत पार्टियों में से एक होते हुए भी मायावती ने आखिरकार कह ही दिया कि चुनाव के बाद अगर स्पष्ट बहुमत नहीं मिला तो वो विपक्ष में बैठना पसंद करेंगी, न कि किसी राजनीतिक दल के साथ गठजोड़ करके सरकार बनाना.

सत्ता के प्रमुख दावेदारों में और कोई पार्टी ऐसा बयान देती नज़र नहीं आ रही है. भाजपा हो या सपा-कांग्रेस गठजोड़, दो तिहाई बहुमत से कम पर कोई कुछ बोलने-कहने को तैयार नहीं है. मायावती शायद अकेली नेता हैं जो ऐसे समय में यह जोखिम ले रही हैं जब छह चरणों में 330 सीटों का मतदान बचा हुआ है.

About the author

Related Posts

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.